An effort to spread Information about acadamics

Blog / Content Details

विषयवस्तु विवरण



पाठ 7 'भेड़ाघाट' हिन्दी कक्षा 8 अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण) | Path 7 Bhedaghat

शब्दार्थ–
सौंदर्य-बोध के कारण = सुंदरता को समझने के लिए
अत्यंत = बहुत अधिक
नुस्खे = वैद्य या हकीम के द्वारा रोग दूर करने के लिए लिखी गई औषधि के पर्चे
मिश्रण = मिलावट
लालसा = इच्छा कामना
पुण्यस्थल = पवित्र जगह
स्नानार्थी = स्नान (नहाने) की इच्छा वाले
खूँटा = लकड़ी का वह टुकड़ा जो जमीन में ठोककर गाड़ दिया जाता है जिससे पशु (बैल आदि) बाँधा जाता है
बीहड़ = सूने जंगल
प्रताप = झरने
घर्षण = जल के गिरने से उठने वाली आवाज
प्यारा = अच्छा
निर्मल = स्वच्छ, उज्जवल
बीचोंबीच = मध्य
तृणों = तिनके, या घास के कोमल अंकुर
उज्जवला = पवित्रता, स्वच्छता
मन्द = धीमी, कम
घना = गहरा
कारागार = जेल, कारागृह
बन्दिनी = जेल में बंद हुई महिला, महिला कैदी
प्रताप = झरना
मधुर = आकर्षण, अच्छा, मीठा
पतन = गिरावट
दुलार = प्रेम,लाड़-प्यार
जन्मदाता = जन्म देने वाला
नज़र = निगाह, दृष्टि
छल रही है = धोखा दे रही है
गल रही है = पिघल रही है
ढलती नहीं = समाप्त नहीं होती
शताब्दियों ने = सैकड़ों वर्षों ने।

कक्षा 8 हिन्दी के इन 👇 पद्य पाठों को भी पढ़े।
1. पाठ 1 वर दे ! कविता का भावार्थ
2. पाठ 1 वर दे ! अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण)
3. उपमा अलंकार एवं उसके अंग
4. पाठ 6 'भक्ति के पद पदों का भावार्थ एवं अभ्यास

बोध प्रश्न

प्रश्न 1 निम्नलिखित शब्दों के अर्थ शब्दकोश से खोजकर लिखिए–
उत्तर– बंदिनी = महिला कैदी
निष्काम = बिना स्वार्थ के, बिना किसी कामना के
कृष्णत्व = कालापन, श्याम रंग
घर्षण = घिसावट, रगड़, घिसना
नुस्खा = वैद्य हकीम द्वारा रोग दूर करने के लिए लिखी गई औषधि का पर्चा
कुता = संख्या जानना, तौल आदि का अंदाजा लगाना
तृण = तिनका, कोमल घास।

प्रश्न 2 निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर संक्षेप में लिखिए–
(क) भेड़ाघाट जबलपुर से कितने मील दूर है ?
उत्तर– भेड़ाघाट जबलपुर से 13 मील दूर है।
(ख)गौरीशंकर मंदिर किसने बनाया था ?
उत्तर– गौरीशंकर मंदिर त्रिपुरा राजघराने के महाराज करणदेव की महारानी अहिल्या देवी ने संवत् 1155-56 विक्रमी में बनवाया । इस प्रकार इसका निर्माण साडे आठ सौ वर्ष पूर्व किया गया।
(ग) 'दूध धारा' किसे कहते हैं ?
उत्तर– 'दूध धारा' संगमरमरी चट्टानों पर से नर्मदा का बहता जल है। वह जब घर्षण के साथ धुआँधार झरने से पानी गिरता है, तो वह दूध जैसा दिखाई पड़ता है, इसीलिए इसे दूध धारा कहते हैं।
(घ) भेड़ाघाट घूमने कौन गया था ?
उत्तर– भेड़ाघाट घूमने के लिए लेखक स्वयं गया हुआ था।
(ड) भेड़ाघाट पर नर्मदा के दोनों ओर की चट्टानें किस पत्थर की बनी हुई है ?
उत्तर– भेड़ाघाट पर नर्मदा के दोनों और की चट्टानें संगमरमर के पत्थर की बनी हुई हैं।

प्रश्न 3 निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर विस्तार से लिखिए ।
(क)नर्मदा नदी के प्राकृतिक सौंदर्य का वर्णन अपने शब्दों में कीजिए ।
उत्तर– नर्मदा नदी अमरकंटक से निकलती है। भेडा़घाट में नर्मदा के दोनों किनारे संगमरमर के है। वहाँ के सौंदर्य को समझ पाना थोड़ा कठिन है। यहाँ की सुंदर प्रकृति के जितने भी रूप है, वे आपस में इस तरह उलझे से हैं, जैसे किसी वैध या डॉक्टर के नुस्खे। नुस्खे में कई तरह की औषधियों का मिश्रण होता है। उसी तरह भेड़ाघाट की सुंदरता भी उलझकर हमें अपनी ओर आकर्षित करती है। नर्मदा नदी के प्रति लेखक की ममता प्रकृति रूप से स्वाभाविक है क्योंकि वह स्वयं इसी के किनारे के सौंदर्य के बीच पला था, पढ़ा था और बड़ा हुआ था। यहाँ का वायुमंडल खुला है। लोग यहाँ स्नान करने के लिए प्रतिदिन बड़ी संख्या में आते हैं। नर्मदा के किनारे की चट्टाने अपने ऊपर कोमल घास के तिनकों को धारण किए हुए है। वे जाड़ा, गर्मी और बरसात के मौसमों को बराबर सहन करती है। उनकी उज्जवल श्वेत्ता में चंद्रमा की चाँदनी को भी मात देती है। बहती हुई नर्मदा अपने किनारे की संगमरमर चाँदी के कारागार की बंदिनी है। उसमें मछलियाँ और मगरमच्छ बड़ी संख्या में मिलते हैं। नर्मदा के पवित्र भेड़ाघाट के पास ही प्रकृति झरना है जिसे दूध-धारा कहते हैं। यहाँ पर प्रकृति अपने सौंदर्य के क्षण-क्षण पर बदलती-सी लगती है। इसके किनारे मंदिर और धर्मशालाएँ है। भेड़ाघाट की छोटी-सी पहाड़ी पर गौरीशंकर मंदिर है। रात्रि के सन्नाटे में दूध-धारा का घर-घर शब्द गौरी शंकर मंदिर में सुनाई पड़ता है यहाँ सर्वत्र ही प्रकृति की सुंदरता का साम्राज्य है।

कक्षा 8 हिन्दी के इन 👇 पाठों के बारे में भी जानें।
1. पाठ 2 'आत्मविश्वास' अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण)
2. मध्य प्रदेश की संगीत विरासत पाठ के प्रश्नोत्तर एवं भाषा अध्ययन
3. पाठ 8 अपराजिता हिन्दी (भाषा भारती) प्रश्नोत्तर एवं भाषाअध्ययन
4. पाठ–5 'श्री मुफ़्तानन्द जी से मिलिए' अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं भाषा अध्ययन)

(ख) जबलपुर में भेड़ाघाट के अतिरिक्त कौन-कौन से घाट हैं ? वे भेड़ाघाट की तरह आकर्षक क्यों नहीं लगते ?
उत्तर– लेखक ने भेड़ाघाट देखा। वहाँ की सुंदरता का प्रभाव लेखक के मन पर बहुत ही अधिक था। उसने सबसे पहले ग्वारीघाट तथा तिलवाड़ा देख लिया था। इन स्थानों की प्रकृति भी कम सौन्दर्यमयी नहीं थी। यहाँ की चट्टानें भी सतपुड़ा के शिखरों कि गौरव थी। इन प्रकृतिक उत्पादानों में उनकी विशालता ही शोभा थी जिसके महत्व को नहीं आँका जा सकता। दूध-धारा और धुआँधार भी अपने प्रकृति सौंदर्य की आभा को बिखेर रही थी। इन्हीं शिखरों के मध्य गौरीशंकर और चौंसठ योगिनी का मंदिर है नर्मदा के किनारों वाले बीहड़ जंगलों के मध्य इन मंदिरों का निर्माण करना भी अपने आप में एक ऐतिहासिक सच्चाई है। लेखक को इन सभी स्थलों की सुंदरता ने प्रभावित किया परंतु उसके ऊपर भेड़ाघाट की सुंदरता का मुग्धकारी प्रभाव चमत्कारिक है।

(ग) लेखक द्वारा की गई भेड़ाघाट यात्रा का वर्णन कम से कम 100 (सौ) शब्दों में कीजिए।
उत्तर– लेखक को सन् 1914 ईस्वी में भेड़ाघाट देखने का अवसर मिला। भेड़ाघाट जबलपुर से तेरह मील दूर है। वह आधा घंटे में मीरगंज स्टेशन पर पहुँच गया। उस समय रेलगाड़ी के यह गति बहुत तेज समझी जाती थी। दो-तीन अंग्रेज अपने खानसामे के साथ भेड़ाघाट जाने के लिए मीरगंज स्टेशन पर उतरे थे। नर्मदा नदी के भेड़ाघाट तक वहाँ सड़क कच्ची थी। नर्मदा नदी अमरकंटक से निकली है। नर्मदा का प्रभाव आठ सौ मिल तक बहता है परंतु भेड़ाघाट इसके उदगम अमरकण्टक से एक सौ चौवन मील की दूरी पर है। मुर्की और लोकेश्वर के बीचोंबीच भेड़ाघाट स्थित है। यह वह स्थान है जहाँ किसी युग में भृगु ऋषि ने तपस्या की थी। यहाँ की संगमरमरी की चट्टानें निर्मल और सुंदर है। वहाँ की गंभीरता प्रदर्शित करती है कि मानो वह ऋषि आज भी वहाँ अपनी तपस्या में लीन है। इस चट्टानों के ऊपर कोमल घास उगी हुई। चंद्रमा की चाँदनी में चाँदी की तरह चमक उठती है और सूरज की तपिस में तप उठती है। बरसात में घना अंधकार सब और छा जाता है। लेखक को यहाँ के सौंदर्य ने बहुत अधिक प्रभावित किया है। लेखक ने गौरीशंकर और चौंसठ योगिनियों के मंदिर को भी देखा। इसके समीप दूध-धारा को देख लेखक चमत्कृत हो उठा । इस सब की घर-घर और मर-मर की आवाज अभी भी लेखक को अपने कानों में गूँजती प्रतीत होती है।

इन प्रकरणों 👇 को भी पढ़ें।
1. हिंदी गद्य साहित्य की विधाएँ
2. हिंदी गद्य साहित्य की गौण (लघु) विधाएँ
3. हिन्दी साहित्य का इतिहास चार काल
4. काव्य के प्रकार
5. कवि परिचय हिन्दी साहित्य
6. हिन्दी के लेखकोंका परिचय

प्रश्न 4 सही विकल्प चुनकर लिखिए–
(1) सतपुड़ा का जंगल कहाँ स्थित है ?
(1) उत्तर प्रदेश
(2) आंध्र प्रदेश
(3) मध्य प्रदेश
(4) बिहार।
उत्तर– मध्य प्रदेश
(2) धुआँधार प्रताप किस नदी के जल के गिरने से बनता है ?
(1) नर्मदा
(2) गंगा
(3) यमुना
(4) ताप्ती
उत्तर– नर्मदा
(3) भेड़ाघाट की पहाड़ी पर कौन-सा मंदिर बना है ?
(1) गणेश
(2) महादेव
(3) गौरीशंकर
(4) सीता-राम
उत्तर– गौरीशंकर
(4) 'पल-पल' पलटति भेष, छलकि छन-छन छवि धरति' ये पंक्तियाँ किस कवि की है ?
(1) माखनलाल चतुर्वेदी
(2) श्रीधर पाठक
(3) शिवमंगल सिंह 'सुमन'
(4) सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला'
उत्तर– श्रीधर पाठक

इन प्रकरणों 👇 के बारे में भी जानें।
1. मित्र को पत्र कैसे लिखें?
2. परिचय का पत्र लेखन
3. पिता को पत्र कैसे लिखें?
4. माताजी को पत्र कैसे लिखें? पत्र का प्रारूप
5. प्रधानपाठक को छुट्टी के लिए आवेदन पत्र

प्रश्न 5 निम्नलिखित पंक्तियों का आशय स्पष्ट कीजिए–
(1) "बैल को अपने खुँटे पर ही अच्छा लगता है।"
उत्तर– एक पुरानी कहावत है कि बैल जो अपने निश्चित स्थान पर बँधता रहा हो, उसे वही स्थान अच्छा (प्रिय) लगेगा।
(2) नर्मदा चाहे कितनी मर-मर करें, वह मरती नहीं है।
उत्तर– नर्मदा नदी अपने जल के प्रभाव से मर-मर की ध्वनि उत्पन्न करती हुई बहती रहती है, किंतु इसके दोनों किनारों की ऊँची चट्टानों की श्वेतता कभी भी मर नहीं सकती।
(3) जो जनसेवा के लिए नीचे गिरना स्वीकृत करते हैं, उन्हें शोभाधाम के ऐसे ही हाथ सँभाल लिया करते हैं।
उत्तर–नर्मदा नदी जब भेड़ाघाट पर अत्यधिक ऊँचाई से नीचे गिरती है। तो उसके दोनों किनारों पर खड़ी संगमरमरी चट्टानें उसे मानो अपनी भुजाओं में स्थान देती प्रतीत होती हैं। इसी प्रकार जब कोई व्यक्ति अथवा व्यक्तित्व जनसेवार्थ झुककर अथवा नत होकर कोई कार्य समाप्त करने हेतु चल पड़ता है, तो उसे समाज रूपी सुंदर एवं मजबूत हाथ अपना सहारा एवं संबल प्रदान करते हैं।

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. व्याकरण क्या है
2. वर्ण क्या हैं वर्णोंकी संख्या
3. वर्ण और अक्षर में अन्तर
4. स्वर के प्रकार
5. व्यंजनों के प्रकार-अयोगवाह एवं द्विगुण व्यंजन
6. व्यंजनों का वर्गीकरण
7. अंग्रेजी वर्णमाला की सूक्ष्म जानकारी

भाषा–अध्ययन

प्रश्न 1 निम्नलिखित शब्दों का शुद्ध उच्चारण कीजिए और लिखिए–
डॉक्टर, कॉलेज, बाॅल, बाॅस, काॅल, लाॅकर, ऑफिस।
उत्तर– विद्यार्थी उपर्युक्त शब्दों का शुद्ध उच्चारण करें और लिखें।

प्रश्न 2 निम्नलिखित शब्दों को वर्णमाला के क्रम में लिखिए–
संन्यासी, नवरत्न, भेड़ाघाट, खूँटा, बरसात, उज्जवलता, नर्मदा, मुलायम, रेती, किनारा, दर्शन, ग्वारीघाट।
उत्तर– उज्जवलता, किराना, खूँटा, ग्वारी घाट, दर्शन, नर्मदा, नवरत्न, बरसात,भेड़ाघाट, मुलायम, रेती, संन्यासी।

प्रश्न 3निम्नलिखित उदाहरण के अनुरूप दिए गए शब्दों का प्रयोग एक एक वाक्य में कीजिए–
उदाहरण– कालिदास, विक्रमादित्य, नवरत्न।
वाक्य– कालिदास विक्रमादित्य की सभा के नवरत्नों में से एक थे।
(1) नगण्य, मूल्य , ईमानदारी।
उत्तर– ईमानदारी से देखा जाए तो इन संगमरमरी चट्टानों की अपेक्षा चाँदी का मूल्य नगण्य है।
(2) नर्मदा, जबलपुर, भेड़ाघाट, प्रकृति चित्रण, मनोरम।
उत्तर– जबलपुर के समीप नर्मदा नदी के भेड़ाघाट का प्रकृति चित्रण लेखक ने बहुत ही मनोरम शैली में किया है।
(3) रात, पक्षी, घोंसला।
उत्तर– रात को पक्षी अपने घोंसलों में छिपकर धुआँधार के झरने की 'घर-घर' की आवाज सुनते हैं।

प्रश्न 4 शुद्ध शब्द छाँटकर सामने के खाने में लिखिए–
शब्द– (1)परवत, पर्वत, पर्बत
उत्तर– पर्वत
(2) नर्मदा, नरमदा, नरबदा
उत्तर– नर्मदा
(3) श्रेणी, शैणी, शरैणी
उत्तर– श्रेणी
(4) पूरवी, पूर्वी, पूर्वि
उत्तर– पूर्वी
(5) प्रपात, पररपात, पर्पात
उत्तर– प्रपात
(6) पशचिम, पश्चिम, पश्चिम
उत्तर– पश्चिम।

प्रश्न 5 निम्नलिखित शब्दों के कम से कम दो-दो अर्थ लिखकर, उन्हें अपने वाक्यों में प्रयोग कीजिए–
आम, काल, गति, अर्थ, तात।
उत्तर–
(क) आम
(i) अर्थ– एक फल का नाम
वाक्य प्रयोग– आम फलों का राजा है।
(ii) अर्थ– जन साधारण
वाक्य प्रयोग– नेताजी ने आम सभा में भाषण दिया।
(ख) काल
(i) अर्थ– समय
वाक्य प्रयोग– रामायण काल में लोग धर्म परायण थे।
(ii) अर्थ– मृत्यु
वाक्य प्रयोग– सुनामी आने पर लोग काल कवलित हो गए।
(ग) गति
(i) अर्थ– चाल
वाक्य प्रयोग– रेलगाड़ी की गति तेज हो गई है।
(ii) अर्थ– अवस्था
वाक्य प्रयोग– उसकी गति बहुत खराब हो गई है।
(घ) अर्थ
(i) अर्थ– भाव, आशय
वाक्य प्रयोग– उसके कथन का अर्थ समझ में नहीं आता।
(ii) अर्थ– धन
वाक्य प्रयोग– भारत की अर्थ व्यवस्था बहुत अच्छी है।
(ङ) तात
(i) अर्थ– पुत्र
वाक्य प्रयोग– हे तात ! मेरे लिए जल लाओ।
(ii) अर्थ– पिता
वाक्य प्रयोग– हे तात ! तुम कहाँ हो ?

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. लिपियों की जानकारी
2. शब्द क्या है
3. रस के प्रकार और इसके अंग
4. छंद के प्रकार– मात्रिक छंद, वर्णिक छंद
5. विराम चिह्न और उनके उपयोग
6. अलंकार और इसके प्रकार

प्रश्न 6 निम्नलिखित वाक्यांशों के लिए उनके सामने लिखे शब्दों में से उचित शब्द छाँटकर लिखिए–
......वाक्यांश ..........................….......शब्द
(अ) उपकार मनाने वाला – अनुकरणीय
उत्तर– कृतज्ञ
(आ) जो अनुकरण करने योग्य हो – चिकित्सक
उत्तर– अनुकरणीय
(इ) कम खाने वाला – कृतज्ञ
उत्तर– मिताहारी
(ई) रोगी का इलाज करने वाला – मिताहारी
उत्तर– चिकित्सक
(उ) जो सब कुछ जानता हो – लोकप्रिय
उत्तर– सर्वज्ञ
(ऊ) हाथ से लिखा हुआ – हस्तलिखित
उत्तर– हस्तलिखित
(ए) जो लोगों को प्रिय हो – सर्वज्ञ
उत्तर– लोकप्रिय

हिन्दी व्याकरण के इन 👇 प्रकरणों को भी पढ़िए।।
1. शब्द क्या है- तत्सम एवं तद्भव शब्द
2. देशज, विदेशी एवं संकर शब्द
3. रूढ़, योगरूढ़ एवं यौगिकशब्द
4. लाक्षणिक एवं व्यंग्यार्थक शब्द
5. एकार्थक शब्द किसे कहते हैं ? इनकी सूची
6. अनेकार्थी शब्द क्या होते हैं उनकी सूची
7. अनेक शब्दों के लिए एक शब्द (समग्र शब्द) क्या है उदाहरण
8. पर्यायवाची शब्द सूक्ष्म अन्तर एवं सूची

आशा है, उपरोक्त पाठ विद्यार्थियों के लिए ज्ञानवर्धक एवं परीक्षापयोगी होगा।
धन्यवाद।
RF Temre
infosrf.com

I hope the above information will be useful and important.
(आशा है, उपरोक्त जानकारी उपयोगी एवं महत्वपूर्ण होगी।)
Thank you.
R F Temre
infosrf.com


Watch related information below
(संबंधित जानकारी नीचे देखें।)



  • Share on :

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पाठ - 2 'आत्मविश्वास' विषय - हिन्दी विशिष्ट (कक्षा 8 ऐटग्रेड अभ्यास पुस्तिका के प्रश्नों के सटीक उत्तर) || 'Aatmavishwas' Question Answer

पाठ - 2 'आत्मविश्वास' विषय - हिन्दी विशिष्ट कक्षा 8 की एटग्रेड अभ्यास पुस्तिका के प्रश्नों के सटीक उत्तर यहाँ दिये गए हैं।

Read more

पाठ 1 "वर दे" हिन्दी विशिष्ट - कक्षा आठवीं (ऐट ग्रेड अभ्यास पुस्तिका) सभी प्रश्नों के सटीक उत्तर || Path 1 "Var De" Hindi Vishishht 8th At-grade

पाठ 1 "वर दे" हिन्दी विशिष्ट - कक्षा आठवीं (ऐट ग्रेड अभ्यास पुस्तिका) सभी प्रश्नों के सटीक उत्तर यहाँ दिया गया है। वार्षिक परीक्षा की तैयारी करें।

Read more

Follow us

Catagories

subscribe