An effort to spread Information about acadamics

Blog ( लेख )

  • BY:RF Temre (554)
  • 0
  • 342

पाठ - 11 'प्राण जाए पर वृक्ष न जाए' अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण) | 8th Hindi, Path 11 Pran Jaye par Vriksha N Jaye

कक्षा - 8 के पाठ - 11 'प्राण जाए पर वृक्ष न जाए' का अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण) को हल कराया गया है।|

Read more
  • BY:RF Temre (544)
  • 0
  • 536

पाठ 8 'गणितज्ञ ज्योतिषी आर्यभट्ट' हिन्दी कक्षा 8 अभ्यास (प्रश्नोत्तर और व्याकरण) | Ganitagya Jyotishi Aryabhatt

कक्षा 8 के हिन्दी के पाठ 8 'गणितज्ञ ज्योतिषी आर्यभट्ट' के अभ्यास (प्रश्नोत्तर और व्याकरण) हल कराया गया है।

Read more
  • BY:RF Temre (538)
  • 1
  • 2276

पाठ 6 'भक्ति के पद' कक्षा 8 हिन्दी पदों का भावार्थ एवं अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण) | path 6 Bhakti ke Pad

कक्षा 8 हिन्दी के पाठ 6 'भक्ति के पद' पदों का भावार्थ एवं अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण) का विश्लेषण प्रस्तुत है।

Read more
  • BY:RF Temre (530)
  • 0
  • 1392

पाठ–5 'श्री मुफ़्तानन्द जी से मिलिए' कक्षा 8 अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं भाषा अध्ययन) | Path 8 Shri Muftanand ji se Miliye

कक्षा 8 की हिन्दी के पाठ–5 'श्री मुफ़्तानन्द जी से मिलिए' के अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं भाषा अध्ययन) को हल कराया गया है।

Read more
  • BY:RF Temre (526)
  • 2
  • 2690

हिन्दी - पाठ 4 'अपराजिता' कक्षा 8 अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण) | Path 8 'Aprajita' Hindi Class 8th

हिन्दी कक्षा 8 के पाठ 4 'अपराजिता' के अभ्यास (प्रश्नोत्तर एवं व्याकरण) को हल करते हुए सहज स्पष्ट किया गया है।

Read more
  • BY:RF Temre (522)
  • 1
  • 1609

पाठ 3 'मध्यप्रदेश की संगीत विरासत' हिन्दी अभ्यास (प्रश्नोत्तर व व्याकरण) कक्षा 8 | Hindi 8th

कक्षा 8 हिन्दी के पाठ 3 'मध्यप्रदेश की संगीत विरासत' का अभ्यास (प्रश्नोत्तर व व्याकरण) को समझाया गया है।

Read more
  • BY:RF Temre (372)
  • 0
  • 944

वर दे! कविता- अभ्यास व व्याकरण | var de kavita Exercise and grammar

< दे! पाठ में आए 'र' के विभिन्न रूप (र्र, ऋ और र) वाले शब्द-
(1) रेफ वाले शब्द- ज्योतिर्मय, निर्झर (2) रकार वाले शब्द- प्रिय, प्रकाश, मन्द्र (3) ऋकार वालेशब्द- अमृत, वृन्द

Read more
  • BY:RF Temre (366)
  • 1
  • 1995

वर दे ! कविता का अर्थ | var de kavita ka arth

हिन्दी के सुप्रसिद्ध कवि सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' की कविता जो कि सरस्वती वंदना है। यहाँ कविता 'वर दे!' अर्थ सरल और सहज शब्दों में समझाया गया है।

Read more

Follow us

Catagories

subscribe